Home > SOA Manifesto > The Original SOA Manifesto - Hindi

The Original SOA Manifesto - Hindi

PDF

सोआ (SOA) घोषणा-पत्र

सेवा उन्मुखता एक प्रतिमान है जो वह मनोभाव दर्शित करता है जो आप करते है |
सेवा उन्मुखता एक प्रकार की वास्तुकला है जो कि सेवा उन्मुखता के प्रयोग का परिणाम है |

हम सेवा उन्मुखता का प्रयोग संस्था को मदद करने के लिये, सुसंगत रूप में स्थायी व्यावसायिक मूल्य दक्षता एवं
लागत प्रभावशीलता लाने के लिये करते है जो कि व्यवसाय की बदलती आवश्यकताओं के नक्शे कदम के अनुसार होती है |

अपने कार्य के द्धारा हम इन प्राथमिकताओं का निर्धारण करते है:

तकनीकी रणनीति पर व्यावसायिक मूल्य

विशिष्ट परियोजनागत लाभों पर रणनीतात्मक लक्ष्यों

एकीकृत परम्पराओं पर आंतरिक अन्तः परिचालनात्मक

विशिष्ट उद्देश्य कि्यान्वयन पर साझा सेवाओं

अधिकतम उपयोगीता पर लोचशीलता

व्यवसाय की प्राम्भिक परिपूर्णता पर विकासमूलात्मक शुध्दता

यानी कि जब हम बायें और दायें ओर दिए गए विषयवस्तु का मूल्यांकन करते हैं, तब दायें ओर कि वस्तु को
ज्यादा महत्व देतें हैं |


मार्गदर्शी सिद्धान्त

हम निम्नलिखित सिधान्तों का अनुसरण करते हैं :

संस्था के सामाजिक एवं सत्ता संरचना का सम्मान करें |

यह माने कि सेवा उन्मुखता कई स्तरों पर बदलाव ला सकती हैं |

सेवा उन्मुखता अपनाने का कार्यक्षेत्र परिवर्तित हो सकता है, इसे प्रबंधित करने के लाभकारी सीमाओं में रखने का प्रयास करते रहें |

केवल उत्पाद और मानकों से कुछ नहीं होगा, इससे न तो सेवा उन्मुखता की प्राप्ति होगी और न ही सेवा उन्मुखता के प्रतिमान होंगे |

सेवा उन्मुखता का एहसास बहुत सी तकनीकियों एवं मानकों से किया जा सकता हैं |

उद्योग आधारित नीतियाँ एवं एकरूप मानक अपनाये एवं समुदाय के मानकों का पालन करें |

जब आन्तरिक रूप से विविधता अपनाये, वाह्य रूप में एकरुपता अपनाये |

व्यवसाय एवं तकनीकी हितधारकों के सहयोग से सेवाओं की पहचान करें |

उपयोगिता के वर्तमान एवं भविष्य के कार्यशेत्र को ध्यान में रखते हुये सेवा प्रयोग को अधिकतम करने का प्रयास करें |

सत्यापित कर ले कि सेवायें व्यवसायिक आवश्यकताओं एवं लक्ष्यों के अनुकूल हैं, संतोषजनक हैं

वास्ताविक उपयोगिता की अनुक्रिया में सेवायेंसेवा विकसित करें |

प्रणाली के विभिन्न पहलुओं को कम करें तथा सभी वाह्य निर्भिरताओं को प्रकट करें जिससे कि हृष्ट पुष्टता बढ़ सके तथा परिवर्तन के प्रभाव को कम किया जा सके |

सार के प्रत्येक स्तर पर, प्रत्येक सेवा को संशक्तिशील एवं प्रबंधनीय क्रियाशीलता की इकाई के चारों ओर सुनियोजित करें |



लेखकों


  • Ali Arsanjani
  • Grady Booch
  • Toufic Boubez
  • Paul C. Brown
  • David Chappell
  • John deVadoss
  • Thomas Erl
  • Nicolai Josuttis
  • Dirk Krafzig
  • Mark Little
  • Brian Loesgen
  • Anne Thomas Manes
  • Joe McKendrick
  • Steve Ross-Talbot
  • Stefan Tilkov
  • Clemens Utschig-Utschig
  • Herbjörn Wilhelmsen

अनुवादक

Sanjay Singh (संजय सिंह)

Sangeeta Singh (संगीता सिंह)